Monday, June 29, 2009

कान्हा ओ कान्हा - a bhajan for lord Krishna


सब जग अधुरा, एक तेरा नाम पूरा
कान्हा ओ कान्हा, कान्हा ओ कान्हा

सब कुछ है तुझसे, तुही सब रंगों में
तूही हर श्रण में , तूही हर कण में
कान्हा ओ कान्हा, कान्हा ओ कान्हा

तू रूप , तू स्वरुप , तू ज्ञान , तू शक्ति
तू सागर , तू आकाश, तू पृथ्वी, तू दाता
कान्हा ओ कान्हा, कान्हा ओ कान्हा

तू खाए माखन , तू खेले होली
तू नाचे सब संग, तू इक गावाला
कान्हा ओ कान्हा, कान्हा ओ कान्हा

तुझसे हैं रोशन दिन के उजाले
तूही देने वाला तूही लेने वाला
कान्हा ओ कान्हा, कान्हा ओ कान्हा

तेरा नाम ले ले तारती ये दुनिया
कान्हा ओ कान्हा, कान्हा ओ कान्हा
सब जग अधुरा, एक तेरा नाम पूरा
कान्हा ओ कान्हा, कान्हा ओ कान्हा

9 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. क्या बात करती हो मैडम कान्हा का नाम कैसे पूरा हो सकता है कान्हा में न आधा है ,कृष्ण में भी बीच का अक्षर आधा है ,कन्हैया में भी .....बचपन से लेकर मृत्यु तक कृष्ण के चरित्र ka कोई भी अंश ऐसा नहीं जो अनुसरणीय हो कपटी.लम्पट चरित्रहीन .......क्या क्या दोष नहीं है इस चरित्र में ऐसे चरित्र को भगवान् कहना मुर्खता hi है ......

    ReplyDelete
  3. kabira jee, aisi hee bat aap sikh, muslim ya isai dharm ke bare me kahane kee himmat kar sakate hain. aap ko kisi ke pujaniy ke bare me aisa kuchh kahane ka adhikar kisane diya. dosh aapki aankhon me or aapke sansakr me hai. narayan narayan

    ReplyDelete
  4. पान्चजन्य में फिर स्वर फूँको
    कहो पार्थ से अरे न चूको।।
    गीता की फूँको तरूणाई।
    कब आओगे ? कृष्ण कन्हाई।।8।।

    ReplyDelete
  5. सुन्‍दर। शुभकामनाएँ।
    kripayaa word verification ko hataa dijiye..
    anaavashyak samauy nasht hotaa hai usame..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  7. Very nice bhajan Mamta, You should try to compose music on it
    rampyari

    ReplyDelete